ईएमआई क्या है? - MoneyTap
emi kya hai
ईएमआई क्या है?
Shiv Nanda
Feb 25 • 7 mins read

ईएमआई क्या है?

7 mins read

एक मध्यम वर्ग या गरीब वर्ग के परिवार के व्यक्ति के लिए ऋण लेना उसके जीवन का एक अभिन्न हिस्सा है। यह ऋण एक विशिष्ट उद्देश्य के लिए लिया जाता है जैसे घर खरीदने के लिए, कार खरीदने के लिए, बच्चों को शिक्षा प्राप्त करने हेतु विदेश भेजने के लिए, परिवार में किसी को शादी के लिए या किसी मेडिकल इमरजेंसी के लिए आदि। ऋण से हमें जीवन के इस प्रकार के महत्वपूर्ण लक्ष्यों को प्राप्त करने में मदद मिलती है।

जब भी कोई व्यक्ति लोन लेने के बारे में सोचता है तो “ईएमआई क्या होता है” यह सवाल उसके दिमाग में सबसे पहले आता है। ईएमआई का मतलब होता है कि जो भी राशि लोन के रूप में उधार ली जाती है उस राशि को ब्याज के साथ ऋणदाता को वापस करना पड़ता है और हर महीने ऋणदाता को दी जाने वाली जो भी राशि तय की जाती है उसे ईएमआई कहा जाता है।

आइए विस्तार पूर्वक समझते हैं कि ईएमआई क्या है और ईएमआई कैसे काम करती है।

ईएमआई (समान मासिक किस्त) क्या है?

ईएमआई को प्रत्येक कैलेंडर माह में एक निर्दिष्ट तिथि पर एक उधारकर्ता द्वारा एक ऋणदाता को भुगतान राशि के रूप में परिभाषित किया जाता है अर्थात प्रत्येक महीने ऋणदाता को भुगतान की जाने वाली राशि को ईएमआई कहते हैं।

ईएमआई को कौन से कारक प्रभावित करते हैं?

ईएमआई को प्रभावित करने वाले कारक इस प्रकार हैं:

  1. मूलधन उधार: यह व्यक्ति द्वारा उधार ली गई कुल ऋण राशि है।
  2. ब्याज दर: यह उधार ली गई राशि पर लगाई जाने वाली ब्याज दर है।
  3. ऋण की अवधि: यह ऋण चुकौती की समय सीमा है जो उधारकर्ता और ऋणदाता, दोनो की सहमति से निर्धारित की जाती है।
  4. फिक्स्ड या फ्लोटिंग प्रकार का ऋण: यदि ब्याज दर फ्लोटिंग है, तो बाकी के घटक ईएमआई को प्रभावित करते हैं।

नोट: एक फिक्स्ड (निश्चित) प्रकार के ऋण में, ईएमआई राशि पूरे ऋण अवधि के दौरान समान रहती है लेकिन, फ्लोटिंग प्रकार के ऋण में, ब्याज दर में परिवर्तन होने पर ईएमआई राशि में उतार-चढ़ाव हो सकता है।

परिशोधन कार्यक्रम क्या है?

परिशोधन कार्यक्रम एक व्यापक तालिका है जो संपूर्ण ऋण विवरण और ईएमआई भुगतानों की रूपरेखा तैयार करता है। यह उधारकर्ता को दिखाता है कि प्रत्येक ईएमआई राशि का कितना हिस्सा मूलधन के रूप में भुगतान किया जा रहा है और कितना हिस्सा ब्याज के रूप में भुगतान किया जा रहा है जब तक कि आपके द्वारा लिए गए ऋण का पूर्ण भुगतान नहीं हो जाता।

परिशोधन कार्यक्रम आपको यह समझने में मदद करता है कि ऋण अवधि के दौरान आपका ऋण कैसे आगे बढ़ता है और इसमें जो विवरण शामिल होते हैं वो इस प्रकार हैं:

  • ईएमआई राशि
  • मूलधन उधार
  • प्रत्येक ईएमआई भुगतान की ब्याज लागत

ऋण ब्याज की गणना कैसे करें?

ईएमआई कैलकुलेट करने के दो तरीके हैं और वो इस प्रकार है:

  1. फ्लैट दर विधि

इस पद्धति में, मूल ऋण राशि और उस पर लगने वाले ब्याज को जोड़ा जाता है। फिर राशि को ऋण भुगतान के लिए तय की गई अवधि से विभाजित किया जाता है और फिर एक वर्ष में महीनों की संख्या से गुणा किया जाता है।

फ्लैट रेट ईएमआई का उदाहरण

मान लें कि आपने ₹10,00,000 का होम लोन 10 वर्षों के लिए 8% की ब्याज दर पर लिया है।

मूलधन राशि – ₹10,00,000

समय सीमा – 10 वर्ष

ब्याज दर – 8%

फ्लैट-रेट पद्धति का उपयोग करके आपकी ईएमआई की गणना निम्नानुसार की जाती है:

(₹10, 00,000 + (₹10, 00,000 x 10 x 0.08)) / (10 x 12)

इसको हल करने के बाद आपकी प्रति माह ईएमआई राशि ₹15,000 आएगी।

  1. रिड्यूसिंग संतुलन विधि

इस विधि का उपयोग करके ईएमआई की गणना करने का सूत्र इस प्रकार है:

(पी * आई) * ((1 + आर)एन)/ (टी * ((1 + आर)एन) -1) [(P x I) x ((1 + r)n)/ (t x ((1 + r)n)- 1)]

  • P – उधार ली गई मूल राशि है
  • I – ब्याज दर (वार्षिक) है
  • r – आवधिक मासिक ब्याज दर है
  • n – मासिक भुगतानों की कुल संख्या है
  • t – एक वर्ष में महीनों की संख्या है

रिड्यूसिंग बैलेंस ईएमआई का उदाहरण

आइए इस विधि का उपयोग करके ईएमआई की गणना के लिए एक उदाहरण देखते हैं।

((₹10, 00,000 x (0.08)) x (1 + (0.08 / 12)) 120) / (12 x (1 + (0.08/12)) 120 – 1)

इसको हल करने के बाद उधारकर्ता द्वारा हर महीने दी जाने वाली ईएमआई राशि ₹12,133 बनेगी।

नोट: रिड्यूसिंग बैलेंस पद्धति में ईएमआई राशि, फ्लैट दर पद्धति की तुलना में कम है। ईएमआई फ्लैट दर गणना में, मूल ऋण राशि ऋण अवधि के दौरान स्थिर रहती है। दूसरी ओर, रिड्यूसिंग संतुलन विधि में, मासिक कम किए गए मूलधन पर ईएमआई की गणना की जाती है। इससे पता चलता है कि उधारकर्ताओं के लिए रिड्यूसिंग बैलेंस पद्धति अधिक लागत-अनुकूल विकल्प हो सकता है।

ईएमआई कैलकुलेटर क्या है?

ईएमआई कैलकुलेटर एक ऑनलाइन टूल है जो आपकी ईएमआई राशि की गणना करता है। इसके साथ-साथ यह विभिन्न ऋणों और अवधियों के लिए ईएमआई की तुलना भी करता है। यह गणना तीन कारकों पर आधारित होती है: ऋण अवधि, ब्याज दर और ऋण राशि।

ईएमआई कैलकुलेटर की सुविधाओं और लाभों में निम्नलिखित बिंदु शामिल हैं:

  • यह उस ईएमआई राशि की गणना करता है जो आपको हर महीने ऋणदाता को चुकानी होती है।
  • एक बार जब आप ईएमआई राशि जान लेते हैं, तो ईएमआई कैलकुलेटर के द्वारा आप ईएमआई राशि के अनुसार अपने बजट की योजना बना सकते हैं।
  • ईएमआई कैलकुलेटर के द्वारा आप यह पता लगा सकते हैं कि आपको कुल कितनी राशि का भुगतान करना है और आपको मूलधन पर कुल कितना ब्याज देना होगा।
  • यह आपके लिए सर्वोत्तम ऋण अवधि का पता लगाने में आपकी सहायता करता है।

ऋण ब्याज दरों के विभिन्न प्रकार क्या हैं?

ब्याज दरें दो प्रकार की होती हैं जो कि इस प्रकार हैं।

  1. निश्चित ब्याज दर: इस प्रकार में, ब्याज दर ऋण की पूरी अवधि के दौरान समान रहती है। इसलिए इसमें ईएमआई भी पूरी अवधि के दौरान समान ही रहती है। आमतौर पर, फिक्स्ड ब्याज दरें फ्लोटिंग ब्याज दरों की तुलना में 1% से 2% अधिक होती हैं। चूंकि इसमें ब्याज दर में बदलाव नहीं होता है, इसलिए एक निश्चित ब्याज दर का सबसे अधिक लाभ यह है कि जब तक आपका ऋण चुकता नहीं होता है, तब तक आपको अपनी भविष्य की ईएमआई के बारे में स्पष्ट जानकारी होती है।
  2. अस्थायी या परिवर्तनशील ब्याज दर: निश्चित ब्याज दर के विपरीत, इस प्रकार में ब्याज दर, बाजार के रुझान के आधार पर अस्थायी या परिवर्तनशील होती है। चूंकि फ्लोटिंग ब्याज दर उधार देने वाले संस्थानों द्वारा दी जाने वाली आधार दर पर आधारित होती है इसलिए आधार दर में परिवर्तन होने पर यह अपने आप बदल जाती है।

फिक्स्ड ब्याज दर या फ्लोटिंग ब्याज दर? इनमें से कौन सी ब्याज दर बेहतर है?

फिक्स्ड ब्याज दर आपकी ईएमआई राशि को पूरे लोन अवधि के दौरान समान रखती है। इसलिए, यदि आप ब्याज दरों में वृद्धि का जोखिम नहीं उठाना चाहते हैं और अपने मासिक भुगतान के बारे में निश्चितता की भावना चाहते हैं, तो एक निश्चित ब्याज दर आपके लिए सबसे अच्छी है।

इसके विपरीत अगर आपका लोन लंबी अवधि के लिए है, जैसे कि 20 से 30 साल के लिए, तो फ्लोटिंग ब्याज दर चुनना उचित है। इसके अलावा, जब आप जानते हैं कि आपकी लोन अवधि तक आधार दर स्थिर रहने वाली है या फिर आपकी लोन अवधि के दौरान आधार दर कम हो सकती है तो आपके लिए फ्लोटिंग दर चुनना ही सबसे बेहतर रहेगा।

इस तरह आप अपने ऋण के पूर्व भुगतान की योजना बना सकते हैं और ऋण पर लगने वाले ब्याज को कम कर सकते हैं जिससे आप सही प्रकार से ज्यादा पैसों की बचत कर सकते हैं।

क्या लोन अवधि के दौरान ईएमआई में बदलाव होता है?

आपकी ईएमआई की गणना लोन राशि, अवधि और ब्याज दर जैसे कारकों के आधार पर की जाती है।

आपके द्वारा भुगतान की जाने वाली ईएमआई कुछ परिस्थितियों में ऋण अवधि के दौरान भिन्न हो सकती है, जो कि इस प्रकार हैं।

  1. ऋण पूर्व भुगतान: कुछ बैंक आपको अपनी ऋण राशि के एक हिस्से का एकमुश्त भुगतान करने की अनुमति देते हैं, जो कि आपके निर्धारित भुगतान से बहुत पहले होता है। यदि आप अपनी ऋण राशि का एक हिस्सा पूर्व भुगतान करते हैं तो आपकी मूल राशि कम हो जाती है। इस प्रकार आपकी ब्याज राशि कम हो जाती है और देय ईएमआई राशि भी कम हो जाती है।
  2. फ्लोटिंग ब्याज दर: निश्चित ब्याज दर वाले ऋणों में, ईएमआई राशि अपरिवर्तित रहती है। हालांकि, अगर आपने फ्लोटिंग ब्याज दर का विकल्प चुना है, तो ब्याज दर बाजार की स्थितियों के अनुसार बदल जाती है। इस प्रकार देय ईएमआई राशि भी लोन अवधि के दौरान बदल जाती है।
  3. प्रगतिशील ईएमआई: कुछ बैंक और ऋण देने वाली संस्थाएं आपको प्रगतिशील ईएमआई बनाने का विकल्प देती हैं। यहां आपको एक निश्चित अवधि के लिए एक निश्चित ईएमआई का भुगतान करना होगा और बाद में, भुगतान राशि बढ़ जाती है। इस प्रकार की सुविधा आमतौर पर लंबी अवधि के ऋणों के लिए लागू होती है।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

  • ईएमआई का क्या अर्थ है?
    ईएमआई की हिंदी में फुल फॉर्म ‘समान मासिक किस्त’ होती है।
  • ईएमआई और लोन में क्या अंतर है?
    लोन वह राशि है जो एक बैंक या ऋण देने वाली संस्था आपको उधार देती है जिसके अंतर्गत आप उनके साथ एक समझौते पर हस्ताक्षर करते हैं, जिसमें यह निर्धारित होता है कि आप उधार ली गई राशि को ब्याज के साथ तय की हुई अवधि में चुकाएंगे। जबकि ईएमआई वह मासिक किस्त है जिसका भुगतान आप एक निर्दिष्ट ऋण अवधि में एक निर्दिष्ट ब्याज दर पर अपने ऋण को पूरा करने के लिए करते हैं।
  • ईएमआई अच्छी है या बुरी?
    ईएमआई स्वाभाविक रूप से न तो अच्छी है और न ही बुरी है। ईएमआई आपको आरामदायक और आसान किस्तों में लोन चुकाने की सुविधा प्रदान करती है। हालांकि, आप इस तथ्य को नजरअंदाज नहीं कर सकते हैं कि ईएमआई के माध्यम से, आप वास्तव में आपके द्वारा लिए गए उधार से अधिक का भुगतान कर रहे हैं। इसमें ब्याज और प्रोसेसिंग फीस जैसी लागतें जुड़ी होती हैं।इसके अतिरिक्त, यदि आप किसी भी महीने में अपनी ईएमआई के भुगतान में चूक करते हैं, तो यह आपके क्रेडिट स्कोर को नुकसान पहुंचाती है जिसके फलस्वरूप दंड के रूप में आपको बढ़ी हुई ब्याज दर का भुगतान करना होगा। अतः ईएमआई सुविधा तब तक फायदेमंद है जब तक आप ऋण लाभ का आनंद लेते हुए ऋण की अवधि के दौरान हर महीने समय पर भुगतान करते हैं।
  • क्या पर्सनल लोन ईएमआई पर जीएसटी लागू है?
    नहीं, जीएसटी ऋण चुकौती पर लागू नहीं है और ऋण पर दिए गए ब्याज पर भी जीएसटी लागू नहीं है। हालांकि, जीएसटी प्रोसेसिंग शुल्क और आपके ऋणदाता द्वारा लागू अन्य शुल्कों पर यह लागू होता है।
  • अगर मैं समय पर ईएमआई का भुगतान करने में विफल रहता हूं/रहती हूं तो क्या होगा?
    यदि आप समय पर अपनी ईएमआई का भुगतान करने में विफल रहते हैं, तो यह आपके क्रेडिट स्कोर को नुकसान पहुंचा सकता है। यद्यपि अगर आप एक बार अपनी ईएमआई भुगतान करने से चूक जाते हैं तो आपको डिफॉल्टर नहीं माना जाता है परंतु यदि आप लगातार तीन बार ईएमआई का भुगतान करने से चूक जाते हैं तो बैंक आपके लिए रिमाइंडर जारी करते हैं। अगर आप रिमाइंडर का भी जवाब नहीं देते हैं, तो बैंक लेट पेनल्टी चार्ज लगाते हैं और आपको नोटिस भी भेज सकते हैं।
  • नो कॉस्ट ईएमआई क्या है?
    “नो कॉस्ट ईएमआई” एक तरह की ईएमआई है जिसमें आप मूलधन पर ब्याज नहीं देते हैं। इसमें ऋण को ऋण अवधि की लंबाई से विभाजित किया जाता है। यह सुविधा आमतौर पर रिटेलर्स/ऑनलाइन रिटेलर्स या मार्केटप्लेस द्वारा दी जाती है।
  • छोटे और बड़े डिफ़ॉल्ट क्या है?
    यदि आप 90 दिनों के भीतर अपनी डिफ़ॉल्ट हुई ईएमआई का भुगतान करते हैं, तो इसे मामूली चूक माना जाता है। परंतु यदि आप पिछले 90 दिनों या उससे अधिक समय में ईएमआई भुगतान करने में विफल रहते हैं, तो इसे एक प्रमुख डिफ़ॉल्ट माना जाता है और आपके ऋण खाते को गैर-निष्पादित संपत्ति (एनपीए) के रूप में वर्गीकृत कर दिया जाता है।

Add a comment

Your email address will not be published.

Experience MoneyTap Power

Apply now

Find our social channels

© 2022 MWYN Tech Private Limited. All rights reserved

<a href="" class="copy-click"
  data-copy-string="#ITN12345"
  data-tooltip-text="Click to copy"
  data-tooltip-text-copied="✔ Copied to clipboard">
  Text to display