भारत में सिबिल स्कोर क्या है?

आपका क्रेडिट स्कोर या सिबिल स्कोर कागज पर लिखी मात्र एक संख्या नहीं है, अपितु आपके लोन व क्रेडिट कार्ड के लिए योग्य बनने का द्वार है। जितना अधिक स्कोर होगा उतने ही ज्यादा द्वार खुले होंगे। यह प्रक्रिया आपको जटिल लग सकती है लेकिन यह लेख आपको इसे सरलता से समझने में मदद करेगी।

सिबिल स्कोर एक, तीन अंक की संख्या है जो कि 300 से 900 के मध्य होती है। जितना आपका क्रेडिट स्कोर 900 के समीप होगा उतनी अच्छी आपकी क्रेडिट प्रोफाइल होगी। सिबिल रिपोर्ट से मिले क्रेडिट इतिहास पर क्रेडिट स्कोर प्राप्त होता है जिसे क्रेडिट सूचना रिपोर्ट (सीआईआर) कहा जाता है।

और पढ़ें +

क्रेडिट स्कोर क्या है?

क्रेडिट स्कोर 3 अंकों की एक संख्या है जो कि किसी व्यक्ति की उधार पात्रता को दर्शाता है। भारत में रिजर्व बैंक ऑफ़ इंडिया द्वारा 4 क्रेडिट स्कोर प्रदान करने वाली कंपनी को लाइसेंस प्राप्त है, सभी चार क्रेडिट सूचना कंपनियों के पास अपना डेटाबेस होता है, जिससे की वो अपना क्रेडिट स्कोर प्रदान कर सकते हैं। सिबिल सबसे अधिक लोकप्रिय है।

क्रेडिट इन्फॉर्मेशन ब्यूरो इंडिया लिमिटेड

सीआरआईएफ़ हाई मार्क

अक्स्पीरीयन

इक्विफैक्स

सिबिल रिपोर्ट व सिबिल स्कोर में क्या अंतर है?

हालांकि सिबिल रिपोर्ट और सिबिल स्कोर दोनों ही आपके लोन आवेदन की स्वीकृति देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं परन्तु इसमें कुछ अंतर भी है।

सिबिल स्कोर

  • सिबिल स्कोर आपकी सिबिल रिपोर्ट से प्राप्त तीन अंको की एक संख्या होती है जो की आपकी उधार पात्रता को क्रेडिट इतिहास व भुगतान के आधार पर दर्शाती है।
  • सिबिल स्कोर आपके आखरी 24 महीनों पर आपके क्रेडिट व्यवहार पर आधारित होता है।

सिबिल रिपोर्ट

  • सिबिल रिपोर्ट एक ऐसा विस्तृत दस्तावेज है जो आपके क्रेडिट इतिहास का विवरण देता है। इसमें आपकी संपर्क विवरण, व्यक्तिगत जानकारी, लोन खाता और क्रेडिट कार्ड की जानकारी, रोजगार की जानकारी तथा जांच की जानकारी शामिल है।
  • सिबिल रिपोर्ट में आपके क्रेडिट इतिहास के आखिरी 36 माह शामिल होते हैं।

फ्री में सिबिल स्कोर ऑनलाइन कैसे चेक करें?

भारत में ऑनलाइन सिबिल स्कोर फ्री में चेक करने के लिए निम्न चरणों का पालन करें।

  • सिबिल की आधिकारिक वेबसाइट पर जाएं।
  • अपने यूजरनेम (उपयोगकर्ता नाम) और पासवर्ड के साथ खाता बनाएँ जिसमें आपके नाम, मोबाइल नंबर और ईमेल आईडी की जानकारी रहे।
  • अपना व्यक्तिगत विवरण दर्ज करें जिसमें आपकी जन्म तिथि, पहचान प्रमाण (पैन कार्ड व आधार संख्या) और पता सम्मिलित है।
  • आपको अपनी पहचान सत्यापित करनी होती है, इसके लिए आपको अपने विवरण को सत्यापित करने के लिए एक ओटीपी प्राप्त होता है।
  • ओटीपी दर्ज़ करके अपना सिबिल स्कोर और सिबिल रिपोर्ट प्राप्त कर सकते हैं।

सिबिल स्कोर रेंज

750 से अधिक सिबिल स्कोर वाले आवेदकों को 79% लोन की स्वीकृति दी जाती है।

आपका सिबिल स्कोर 300 से 900 के बीच होता है। जिसका स्कोर जितना अधिक होगा, उसको लोन मिलने की संभावना उतनी ही ज्यादा होती है।

सिबिल स्कोर की गणना कैसे करें?

किसी व्यक्ति के लोन और क्रेडिट कार्ड के पुनर्भुगतान के व्यवहार के आधार पर सिबिल स्कोर की गणना एक एल्गोरिथ्म का उपयोग करके की जाती है। सिबिल स्कोर की गणना करते समय निम्नलिखित 6 कारकों पर ध्यान देना आवश्यक होता है।

  • क्रेडिट मिक्स

    सुरक्षित लोन (गृह लोन, ऑटो लोन) और असुरक्षित लोन (पर्सनल लोन, लाइन ऑफ़ क्रेडिट) का संतुलन बनाना। जिससे की आपके सिबिल स्कोर पर सकारात्मक प्रभाव पड़े।

  • कर्ज़ व आय का अनुपात

    अपने कर्ज़ जैसे की क्रेडिट कार्ड के बिल और गिरवी को अपनी आय के 50% से कम रखें जिससे की आपका क्रेडिट स्कोर बेहतर बनेगा। अधिक अनुपात आपके क्रेडिट स्कोर को नीचे कर सकता है।

  • भुगतान इतिहास

    अपनी ईएमआई पर डिफ़ॉल्ट (भुगतान न करना) ना करें। आपके सिबिल स्कोर को नकारात्मक रूप से प्रभावित करने के दो कारक हो सकते हैं, देर से भुगतान व डिफ़ॉल्ट करना।

  • उच्च साख उपयोग

    यदि आपके क्रेडिट कार्ड पर बकाया राशि अधिक होती है, तो यह बढ़े हुए भुगतान को दर्शाता है, जिससे आपके सिबिल स्कोर पर गलत प्रभाव पड़ता है।

  • अधिक पूछताछ

    यदि आपने हाल ही में कोई लोन और क्रेडिट कार्ड के लिए आवेदन दिया हो या फिर लोन की मंजूरी मिली हो तो तब ज्यादा क्रेडिट एप्लिकेशन आपके लोन के बोझ को प्रदर्शित करता है इसलिए ऋणदाता आपकी क्रेडिट प्रोफ़ाइल को अधिक सावधानी से देखता है।

  • नकारात्मक स्थिति

    स्थिति जैसे की खारिज लोन, दिवालियापन के लिए दाखिल करने, समय से पहले बंद होना, भुगतान में डिफ़ॉल्ट के कारण संग्रह में खाते जैसे प्रभाव आपके सिबिल स्कोर को तुरंत प्रभावित करते हैं।

एक अच्छा सिबिल स्कोर क्या होता है?

700 से अधिक स्कोर एक अच्छा स्कोर होता है। अगर हम दूसरे शब्दों में कहें तो 700 से 900 के बीच का स्कोर सबसे अच्छा होता है जिसको आपको अपना लक्ष्य बनाना चाहिए। जो यह दर्शाता है कि आप अपना भुगतान समय से करते हैं, जिससे की बैंक व वित्तीय संस्थान आपकी साख को समझते हैं। क्रेडिट स्कोर अच्छे होने के लाभ।

  • एक अच्छा क्रेडिट स्कोर आपको अधिक सीमा तथा बेहतर सुविधाओं के साथ क्रेडिट कार्ड प्राप्त करने में सहायक होगा।
  • कार लोन, पर्सनल लोन, होम लोन मिलने की संभावनाएं अधिक होंगी। बैंकों को आपके वित्तीय व्यवहार तथा साख के बारे में पता होता है इसलिए वे आपके खाते से लोन के आवेदन को स्वीकार नहीं करते।
  • एक अच्छा सिबिल स्कोर आपको समझौता वार्ता या कम ब्याज दर के लिए सहायक हो सकता है।
  • अगर आपका क्रेडिट स्कोर या सिबिल स्कोर अच्छा होता है, तो आपको अपने लोन पर अतिरिक्त खर्च जैसे प्रोसेसिंग फीस आदि को दूर कर सकते हैं।

खराब सिबिल स्कोर क्या है?

300 से 500 के स्कोर को खराब स्कोर माना जाता है। खराब क्रेडिट स्कोर आपके खराब क्रेडिट इतिहास को दर्शाता है। अतः एक खराब क्रेडिट स्कोर आपके लोन प्राप्त करने की संभावना को भी काम कर देता है क्योंकि लोन दाता को आपकी क्रेडिट प्रोफाइल संदेहजनक लगती है। अगर आपको काम क्रेडिट स्कोर के बाद भी लोन मिल जाता है तो उसमें बहुत अधिक ब्याज दर होती है। यदि आपका क्रेडिट स्कोर इस श्रेणी में आता है तो यह एक चिंता का विषय होता है, जिसे आप चेतावनी समझ सकते हैं। उसे ठीक करने के लिए गंभीर उपाय की आवश्यकता होती है।

पर्सनल लोन व क्रेडिट कार्ड प्राप्त करने के लिए सिबिल स्कोर का महत्व

जब लोन लेने को बात आती है तब सिबिल स्कोर महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। जब भी आप किसी भी प्रकार के लोन के लिए आवेदन देते है है तो सबसे पहले लोन दाता आपकी क्रेडिट रिपोर्ट को डाउनलोड कर आपकी साख का पता करते हैं।

यदि आपका क्रेडिट स्कोर अच्छा होता है तो आपके लोन प्राप्त करने की संभावना अधिक हो जाती है। आप कुछ शुल्कों पर बात कर के काम भी करवा सकते हैं।

परन्तु यदि आपको क्रेडिट स्कोर कम होता है तो आपके लोन प्राप्त करने की संभावना भी काम होती है। लेकिन अगर आप अन्य मापदंडों पर खरे उतरते हैं तो आपको आवश्यक राशि का लोन मिल सकता है।

750 और उसके ऊपर उत्तम शीघ्र अनुमोदन प्रक्रिया और सबसे कम ब्याज दर।
700 – 749 अच्छा अच्छी ब्याज दरें
650 - 699 संतोषजनक सीमित विकल्प लेकिन आपके पक्ष में कार्य कर सकते हैं।
600 - 649 शंकित अधिक ब्याज दर
600 से कम तुरन्त कार्रवाई की जरूरत स्वीकृति की संभावना बहुत कम होती है।

सिबिल स्कोर को कैसे सुधारें और बनाए रखें?

यदि आपका सिबिल स्कोर कम है या आपका भुगतान इतिहास खराब है, तो इसमें घबराने की बात नहीं है क्योंकि यह रिकॉर्ड आपके क्रेडिट प्रोफाइल पर हमेशा नहीं रहेगा। आप अपना क्रेडिट इतिहास सुधार सकते हैं और अपने क्रेडिट स्कोर में सुधार ला सकते हैं। अगर आपके पास एक अच्छा सिबिल स्कोर है तो आपको इसे बनाए रखने की आवश्यकता है। आप अगर अपना क्रेडिट स्वास्थ्य ( क्रेडिट हेल्थ) को रखना चाहते हैं तो इन निम्नलिखित सुझाव का पालन करें:

  • अपने भुगतान समय पर करें।
  • क्रेडिट उपयोग अनुपात को सीमित करें।
  • अधिक क्रेडिट कार्ड या लोन आवेदन से बचें।
  • अपने उपलब्ध क्रेडिट का 30% से अधिक उपयोग करने का प्रयास न करें।
  • अपने क़र्ज़ को चुकाएं या संगठित करें।
  • अपने क्रेडिट कार्ड की संख्या सीमित करें।
  • अपने क्रेडिट पोर्टफोलियो में विविधता लाएं।
  • अपने क्रेडिट रिपोर्ट की गलतियों को देखें।

अगर आप अपनी सिबिल रिपोर्ट पढ़ना चाहते हैं तो उसकी विस्तृत जानकारी के लिए यहां क्लिक करें।

क्रेडिट स्कोर, क्रेडिट रेटिंग व क्रेडिट रिपोर्ट के बीच क्या अंतर है?

इन तीनों शब्दों का संबंध बहुत करीब है, इस वजह से लोग आसानी से भ्रमित हो जाते हैं। निम्नलिखित बिंदु इनके बीच का अंतर समझने में आपकी मदद करेंगे। इसके अलावा एक अन्य संबंधित शब्द है जिसे सहूलियत स्कोर (वैंटिज स्कोर) कहा जाता है जो कि एक क्रेडिट स्कोर प्रक्रिया है।

क्रेडिट स्कोर क्रेडिट रेटिंग क्रेडिट रिपोर्ट
यह 3-अंकीय संख्या सूचक है, जो किसी व्यक्ति की क्रेडिट स्वास्थ्य (क्रेडिट हेल्थ) को दर्शाता है। यह किसी संस्था या व्यवसाय को सौंपे गए क्रेडिट स्कोर है। यह आपके वित्तीय व्यवहार का दस्तावेजीकरण है, जो पहले के और अभी के लोन व क्रेडिट के संबंध में है।
यह समय के साथ बदल सकता है। यह समय के साथ बदल सकता है। आपकी क्रेडिट रिपोर्ट की जानकारी 7 साल तक रहती है। इसके बाद इसे नई जानकारी से बदल दिया जाता है।
यह 300-900 के बीच बदलता रहता है। इन्हें श्रेणी द्वारा दर्शाया जाता है जैसे एएए, एए, बी+, ए+, आदि। यह जानकारी का संग्रह है।

Get the app for a seamless application process

Get it on playstore Get it on appstore

With MoneyTap’s line of credit you will have money available instantly 24x7 to use anytime, anywhere. Click below to experience its power.

Apply now

Our journey so far

5 years and counting as India’s 1st app based Credit Line

  • 1.1M

    Happy faces

  • 252K

    Loans disbursed

  • 5

    Years of service

  • 10M+

    Downloads

आपकी सभी खास ज़रूरतों के लिए पर्सनल लोन 2.0

Marriage Loan

Travel Loan

Medical Loan

Education Loan

Used Car Loan

Two-Wheeler Loan

Laptop Loan

Mobile Loan

Home Renovation Loan

Consumer Durable Loan

Debt Consolidation Loan

Used Two-Wheeler Loan

एफएक्यू


लोनदाता ब्युरो को हर 30 दिनों में क्रेडिट जानकारी भेजते हैं। छोटे लोनदाता तिमाही आधार पर जानकारी जमा करते हैं। यदि आपने कोई ऐसा विवाद उठाया है जो आपके पक्ष में हल हुआ है, तो इसका नतीजा आपकी सिबिल रिपोर्ट में दिखने में 90 दिन लग सकते हैं।

केवल कुछ सदस्य जैसे कि आप, आपके लोनदाता, कुछ नामी बैंक और अन्य अधिकृत प्रतिष्ठान आपके सिबिल स्कोर तक पहुंच सकते हैं। यह सदस्य आपकी रिपोर्ट तक तभी पहुंच सकते हैं जब आप उनके साथ किसी लोन या क्रेडिट कार्ड के लिए आवेदन करते हैं।

आपके पास जितना अधिक क्रेडिट अनुभव होगा उतना ही आपका क्रेडिट स्कोर के लिए अच्छा है। एक नया क्रेडिट कार्ड लेने पर आपके सिबिल स्कोर औसत क्रेडिट आयु कम कर सकता है।

सिबिल खुद आपकी सिविल रिपोर्ट में कोई बदलाव नहीं कर सकता। यह केवल तब ही बदल सकता है जब कोई संबोधित क्रेडिट संस्थान द्वारा अधिकृत किया जाता है।

सिबिल के साथ न्यूनतम 7 साल तक रिकॉर्ड रहता है।

व्यक्तिगत लोन की मंजूरी के लिए 750 या उससे अधिक के सिबिल स्कोर की आवश्यकता होती है। 750 से अधिक का स्कोर आपके लोन की स्वीकृति के अवसरों को बढ़ाता है, साथ ही साथ ये आपको लोनदाता के साथ लोन की शर्तों पर बातचीत करने का विशेषाधिकार देता है।

कुछ ही लोनदाता व बैंक आपको कम सिबिल स्कोर के साथ लोन देने के लिए तैयार होंगे और अगर वह ऐसा करते हैं तो वह लोन आपको अधिक ब्याज दर पर देंगे।

सिबिल रिपोर्ट एक सविवरण दस्तावेज है जिसमें आपके पास विभिन्न प्रकार के क्रेडिट खातों की विस्तृत जानकारी होती है जैसे व्यक्तिगत लोन, गृह लोन, क्रेडिट कार्ड, ऑटो लोन, आदि। रिपोर्ट को 6 भागों में विभाजित किया गया है: व्यक्तिगत जानकारी, संपर्क जानकारी, रोजगार जानकारी, सिबिल स्कोर, खाता जानकारी और पूछताछ जानकारी।

सिबिल के साथ संशय शुरू करने के लिए, नीचे दिए गए ऑनलाइन संशय चरणों का पालन करें:

  • चरण 1: मायसिबिल(myCIBIL) पर लॉगिन करें।
  • चरण 2: क्रेडिट रिपोर्ट अनुभाग पर जाएं। संशय केंद्र टैब पर जाएं और एक संशय पर क्लिक करें।
  • चरण 3: ऑनलाइन संशय फ़ॉर्म भरें।
  • चरण 4: संबंधित अनुभाग का चयन करें जिसे आप संशय करना चाहते हैं।
  • चरण 5: संशयी अनुभाग के लिए एक मान दर्ज करें।
  • चरण 6: प्रणाली संशय को मान्य करेगी और उस संशय को सुलझाने के लिए संबंधित क्रेडिट संस्थान को भेज देगी।

Find our social channels

© 2021 MoneyTap. All rights reserved